आज़ाद आवाज़ : Free Speech

आज़ादी एक ऐसा शब्द है जिसका विस्तार अनंत है, और इस विस्तार में कई बार सैकड़ों भाव और स्थितियां समाहित हो जाते हैं। आज़ादी के संदर्भ में देखें तो हर एक पल की अपनी अलग-अलग स्वतंत्रता है। एक ही दिन में आप कई बार खुद को आज़ाद महसूस करते हैं और बहुत बार खुद को… read more

1
Reply

यार तुम याद आए : 5 Dimensions of Friendship

Kavi-Vaar on Friendship Day is here and Today I’m trying to illustrate The word Friend. This is a series of Poems. Every poem progressively widens and challenges the meaning of a friend. Every relationship has a friend embedded in. friend is a streak of light. जहां मुठ्ठी होती है वहां हाथ मिलाने का मौका नहीं… read more

0
Reply

तिरछे सजदे : Changing Geometry of Love

What Happens When two people step on weaknesses of each other… वो दोनों एक अरसे तक एक दूसरे की कमज़ोरियों पर पैर रखते रहे और उनके बीच का फ़र्श घिस गया अब सारे सजदे तिरछे हो गये हैं दुआएं और लानतें अब छूकर नहीं निकलतीं अगल-बगल पड़े भी हों तो भी अब पैर नहीं टकराते… read more

0
Reply

अंदर गूँजती चीख़ों का संगीत : Musical Stream of ‘Screams’

हर इंसान के अंदर गूँजती हुई एक चीख़ है और दुनिया में कई बार उस चीख़ को लय में बांधा गया है.. उसे आवाज़ दी गई है.. उसे संगीत बनाने की कोशिश की गई है। linkin park का संगीत सुनकर मुझे हमेशा ये महसूस हुआ जैसे किसी ने हर इंसान की चीख़ को लय में… read more

0
Reply

Orbits of Spouses : वर-वधू के बीच की अंतरिक्ष मालाएँ

This time i have tried to travel between the orbits of Spouses and the journey was very different…. meaningful. पति-पत्नी एक दूसरे से भिन्न एक दूसरे से खिन्न कभी एक दूसरे को दिल की बात न कहते हुए जिये चले जा रहे हैं उधड़े हुए कई मोड़ ज़िंदगी के सिये चले जा रहे हैं बहुत… read more

0
Reply

Poetic meaning of Eid <140

जब नफ़रतों के, भ्रम के बादल छँट जाएँ आँख की धूल हट जाए और चाँद साफ़ दिखने लगे तो समझो उसी दिन ईद है EID Mubarak 🕋🌙 © Siddharth Tripathi  ✍️SidTree Add Bookmark for SidTree.co

1
Reply

Better Half – हमसफ़र – 1

हमसफ़र श्रृंखला के तहत दो कविताएं लिखी हैं। इनमें जीवनसाथी के होने का बोध है और उसके ना होने पर देर तक रहने वाली अगरबत्ती जैसी खुशबू भी। तुम वही हो जो मेरे ज़ेहन की अंगुली पकड़ के मुझे ख़्वाबों में ले जाती हो लम्हा दर लम्हा तुम्हारे ख्यालों के साथ पिघलता हूं मैं कंप्यूटर… read more

2
Reply

A Falling Bullet can kill a Person | उड़ती गोली का गणित

The weight and the shape of a falling object determine how dangerous it could be to a human. If you were to drop a coin weighing 3.5 grams from a height of two kilometres, it would accelerate to a maximum speed of 150km/h. air resistance would prevent it from travelling any faster and it would… read more

0
Reply

Better Half – हमसफ़र – 2

ये एक छोटी सी कविता है, जिसमें हमसफ़र आपकी यात्रा का साक्षी है। सुनना, सुन पाना और सुन लेना भी प्रेम ही है। किसी की बातों की किरचों को और यात्रा के छालों को, दिल की रूई में सोख लेना भी एक अग्नि परिक्रमा के समान है। शुक्रिया वो मुझे सहता रहा, बुरे वक़्त में… read more

1
Reply

ट्रंप तुम सभ्य तो हुए नहीं, धरती पर बसना भी तुम्हें नहीं आया एक बात पूछूँ — उत्तर दोगे ? प्रकृति को लूटना कहां से सीखा विषैला धुआं कहां से पाया अज्ञेय की कविता साँप का पर्यावरणीय संस्करण मैंने लिखा है, आज ट्रंप पर कटाक्ष करने के लिए, इस नुकीली कविता का इस्तेमाल करने की… read more