Souls on a Walk….. पैदल पैदल

Core thought : तेरे मेरे अंदर.. पैदल-पैदल.. एक रिश्ता सा चलता है / Deep inside You and me a Relationship walks slowly…   दौड़ के महक छपाक से रूह में कूदती … Continue reading Souls on a Walk….. पैदल पैदल

Die in You : होना, न होने में है

Kill your Super Ego and become meaningful – Sufi Sayings Hindi Poem followed by English Version for International Readers Taken from bilingual poem collection ‘Poetic Buddha’ by Siddharth पानी पर … Continue reading Die in You : होना, न होने में है

Desert Froze, Time Flows : थोड़ा गुनगुना हो सब कुछ

Hindi Poem followed by Translation in English for International Readers Taken from bilingual poem collection ‘Poetic Buddha’ by Siddharth अंदर ही अंदर बर्फ सी जमी… भागती, हांफती ज़िंदगी में… कुछ … Continue reading Desert Froze, Time Flows : थोड़ा गुनगुना हो सब कुछ

Boiling Ocean of Mumbai City…. उबलता समंदर

Taken from bilingual poem collection ‘Poetic Buddha’ by Siddharth Poem in Hindi जब दो जोड़ा आंखें.. सपने बुन रही थीं.. समंदर चुप था ‘चिल्लर’ की भूख, मवाली का दबदबा दारू … Continue reading Boiling Ocean of Mumbai City…. उबलता समंदर

है ख़बर गर्म… Breaking News

Taken from bilingual poem collection ‘Poetic Buddha’ by Siddharth झुकी-बुझी भीगी-थकी नज़रें हैं और हैं अंगारों से सवाल जवाब नहीं मिलता तो क्या है वो भूख से बिलखता है कॉपी … Continue reading है ख़बर गर्म… Breaking News