Exit Poll : एक वोटर की औक़ात

हसरतों के मंच पर नंगी आवाज़ें छल-कपट करती किस्सागोई सी है हर झूठ को प्रणाम करते आए हैं हम क्यों सुन्न हैं विचार आंख, रोई सी है आज दिल में … Continue reading Exit Poll : एक वोटर की औक़ात