ख़ुद को एक फूल दिया है

75 सेकेंड्स के इस वीडियो में फूलों की कई पंखुरियों के साथ उम्मीद भी मौजूद है.. वही उम्मीद जो कुछ भी नया शुरू करते हुए हमारे अंदर होती है

Moon Line in Lockdown : चांद की आज़ाद लकीर

Tap or Click Play चाँद किसी लॉकडाउन में नहीं हैवो उम्मीदों वाले विभाग का आपातकालीन सेवक हैहर आँख..चाँद को देखते हुएआसमान में आज़ादी की लकीर खींच रही है

Souls on a Walk….. पैदल पैदल

Core thought : तेरे मेरे अंदर.. पैदल-पैदल.. एक रिश्ता सा चलता है / Deep inside You and me a Relationship walks slowly…   दौड़ के महक छपाक से रूह में कूदती … Continue reading Souls on a Walk….. पैदल पैदल

Horse Power – आज़ाद रफ़्तार

ये घोड़ा दौड़ रहा है ठीक वैसे ही जैसे आप दौड़ रहे हैं हर रोज़ नाक से रस्सी गुज़रने के बावजूद जान लगाकर दौड़ने के लिए अपनी आज़ाद रफ़्तार को … Continue reading Horse Power – आज़ाद रफ़्तार

Boiling Ocean Of Mumbai : उबलता समंदर

Remembering 26/11 Terror attacks of Mumbai जब दो जोड़ा आंखें.. सपने बुन रही थीं.. समंदर चुप था ‘चिल्लर’ की भूख, मवाली का दबदबा दारू की मस्ती रिश्वतखोर ख़ाकी बेईमान टोपी … Continue reading Boiling Ocean Of Mumbai : उबलता समंदर

Heart Roams like a FireFly… फरवरी और आवारा दिल

Lets talk about Love… about matters of heart… about soul and being yourself… that pious corner of your life… you would see that heart is like a firefly… it roams … Continue reading Heart Roams like a FireFly… फरवरी और आवारा दिल

Boiling Ocean of Mumbai City…. उबलता समंदर

Taken from bilingual poem collection ‘Poetic Buddha’ by Siddharth Poem in Hindi जब दो जोड़ा आंखें.. सपने बुन रही थीं.. समंदर चुप था ‘चिल्लर’ की भूख, मवाली का दबदबा दारू … Continue reading Boiling Ocean of Mumbai City…. उबलता समंदर

है ख़बर गर्म… Breaking News

Taken from bilingual poem collection ‘Poetic Buddha’ by Siddharth झुकी-बुझी भीगी-थकी नज़रें हैं और हैं अंगारों से सवाल जवाब नहीं मिलता तो क्या है वो भूख से बिलखता है कॉपी … Continue reading है ख़बर गर्म… Breaking News