GIGO : कूड़ा in.. कूड़ा out !

कूड़ा पारदर्शी है.. उसमें गवाही होती है व्यक्तित्व के छिलकों की.. हर व्यक्ति का, हर घर का, हर व्यवस्था का कूड़ा अलग तरह का होता है.. दबे हुए राज़ खोल देता है

मन का स्मार्ट स्पीकर

“हे मनुष्य” “ओके मनुष्य” “थम जा मनुष्य.. आगे खाई है” ऐसे ही किसी जागृत कर देने वाले वाक्य से मन का स्मार्ट स्पीकर एक्टिव हो गया.. उसने माहौल को जज़्ब … Continue reading मन का स्मार्ट स्पीकर

Spring Saraswati : वो मौसम जो खुद वाग्देवी सरस्वती ने लिखा

आसमान ने हीरे की अंगूठी पहनी है दिलों की बर्फ़ पिघल रही है जमी हुई चेतना पंख फड़फड़ा रही है हर कोई ठंडे घरों से बाहर निकलना या झाँकना चाहता … Continue reading Spring Saraswati : वो मौसम जो खुद वाग्देवी सरस्वती ने लिखा

Theatrics of Knowledge 🎭 ज्ञान का अभिनय

जहां अभिनय है, वहां ज्ञान सिर्फ़ एक दर्शक बनकर.. बस थोड़ी देर के लिए बैठ सकता है!
.
.
जब शहर में आग लगी हुई थी..
वो चुप था..
उसकी अंतरात्मा पर बीस सेंटीमीटर की बर्फ़ गिरी हुई थी

Chai-चरित्र ☕️ (a Tea-nalysis)… एक चाय हो जाए !

चाय की प्यालियों के बीच वक़्त कैसे उधड़ता है.. चाय के घूँट इंसान को कैसे सहलाते हैं.. आज़ादी दिलाने वाले सवालों से चाय पर मुलाक़ात कैसे होती है ?… जब अंगारे आराम फ़रमाते हैं तो चाय पिलाना कैसे चाटुकारिता और जी हुज़ूरी बन जाता है.. और चाय में एक चम्मच चीनी घोलते हुए.. किस तरह का अध्यात्म दिखाई देता है ? …Read more…

Birthdays : एक इंसान के अस्तित्व का महोत्सव

किसी का जन्मदिन, उसके लिए एक बहुत बड़ा और एकदम नया अवसर होता है। ये दिन अपने ख़्यालों में अपनी ही तस्वीर बनाने और उसमें रंग भरने का होता है। … Continue reading Birthdays : एक इंसान के अस्तित्व का महोत्सव

Deep Dive : महत्वाकांक्षा और सपने के टकराव की चिंगारियाँ

Deep Dive क्या है ? एक गोताखोर की तरह किसी भी चीज़ (विषय-विवाद-भावना-पदार्थ) में गहराई तक उतरने की प्रवृत्ति। किसी भी चीज़ में चार-पाँच फुट से ज़्यादा गहरे उतरते ही … Continue reading Deep Dive : महत्वाकांक्षा और सपने के टकराव की चिंगारियाँ

आपके सिरहाने किताबें हैं या मोबाइल फ़ोन ?

पहले सिरहाने किताबें रखकर सोते थे, अब मोबाइल फ़ोन चार्जिंग पर लगाकर सोते हैं।  WhatsApp, Facebook, Twitter और Instagram के दौर में किताबों के साथ समय कम बीतता है। किताबें … Continue reading आपके सिरहाने किताबें हैं या मोबाइल फ़ोन ?