Shiva’s Molten Marriage : बहता हुआ लावा माँग का सिंदूर बन जाता है

This is dedicated to the state of simultaneous attachment & detachment, practiced by Lord Shiva in Hindu Mythology. I hope you would like this. तुमने पार्वती की तरह मुझे अपनी भक्ति … Continue reading Shiva’s Molten Marriage : बहता हुआ लावा माँग का सिंदूर बन जाता है

Vaccum : मन में भीड़ है.. घर खाली है

Core Thought / मूल विचार : कई बार हमारे घर, अंतरिक्ष के निर्वात की तरह प्रतीत होते हैं, हमारे आसपास की दुनिया एकदम खाली लगती है जिसमें हवा की भी … Continue reading Vaccum : मन में भीड़ है.. घर खाली है

Diwali | इस बार दीवाली गीली नहीं है

Happy Diwali to all of you. I wrote this poem in 2015 and even today I feel like sharing it. This Hindi Poem Sketches essence of the festival of Diwali. दीयों … Continue reading Diwali | इस बार दीवाली गीली नहीं है

आज़ादी : Melt chains & Fly

Hi, This is a poem about Freedom, its not about any country’s independence. Its about an individual, born free on this planet and then taught to be caged and manipulative. This … Continue reading आज़ादी : Melt chains & Fly

बाज़ीचा… Playground of Words

बच्चा जब तक बोलना नहीं सीखता उसके अंदर कितने शब्द क़ैद में रहते हैं फड़फड़ाते रहते हैं.. लेकिन बाहर नहीं निकलते फिर वो सीख लेता है शब्दों के छींटें दुनिया … Continue reading बाज़ीचा… Playground of Words

You are an Artist : आप हैं सृष्टि के रचयिता

Core Thought : Transforming all the dust, pain, suffering into something beautiful ! This is what an artist do. You are an Artist ! मूल विचार : पहले दुनिया Leaders … Continue reading You are an Artist : आप हैं सृष्टि के रचयिता

Money on Mind, Tattoos on Soul : आत्मा पर गोदे हुए शब्द

Core Thought : In Most of the relationships, Money becomes the Driving force. That’s why there are numerous painful Tattoos printed on your soul. In one line you can say … Continue reading Money on Mind, Tattoos on Soul : आत्मा पर गोदे हुए शब्द

Souls on a Walk….. पैदल पैदल

Core thought : तेरे मेरे अंदर.. पैदल-पैदल.. एक रिश्ता सा चलता है / Deep inside You and me a Relationship walks slowly…   दौड़ के महक छपाक से रूह में कूदती … Continue reading Souls on a Walk….. पैदल पैदल

Shadow of a Tree : मरने के बाद इंसान पेड़ बन जाते हैं

This Time Kavi-Vaar comes in Advance. I am using a sort of Poetic Carbon Dating technique to sketch the transformation of a human being to a tree. एक हवाई जहाज़ … Continue reading Shadow of a Tree : मरने के बाद इंसान पेड़ बन जाते हैं

फ़ासला : Distance

Core Thought : Just feel the distance, sometimes distance is equivalent to worship. मूल-विचार : इस बार कविवार में दूरी यानी फासले को महसूस कीजिए, कई बार ये फासला ही एक तरह की … Continue reading फ़ासला : Distance

Sparks are Sleeping : अंगारे आराम फर्मा रहे हैं

अंगारे आराम फर्मा रहे हैं
लबालब हैं.. तपिश से
मगर हवा खा रहे हैं
राख उड़ा रहे हैं
अंगीठी में दफ़्न
चाय पिला रहे हैं

काले गुलाब : Black Roses

Another one in #Azaadi Series. Core Thought is “Freedom from eyes that look like Black Roses” गुलदस्ता जला देने पर कोई मुक़द्दमा तो दर्ज नहीं हुआ लेकिन उसे हर बार हँसते … Continue reading काले गुलाब : Black Roses