A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

Posts from the ‘prose’ category

LED : Love Emitting Diode / प्रेम प्रकाश / The Hum-सफ़र Project

जिस तरह LED यानी Light Emitting Diode से रोशनी निकलती है.. उसी तरह प्रेम को संसार में प्रक्षेपित करने वाला कोई Love Emitting Diode भी होता होगा जो इंसानों के अंदर फिट रहता है। दोनों में फर्क है.. एक से रोशनी निकलती है और दूसरे से मोहब्बत। जब किसी इंसान से प्रेम और करुणा का ज़रा सा भी प्रक्षेपण न हो.. तो समझ लीजिए कि उसका Love Emitting Diode.. क्रोध और घृणा के अतिरिक्त वोल्टेज से फुक गया है। और इसे ठीक करने.. क्रियान्वित करने का नाम है.. The Hum-Safar Project..

Intoxication : ज़हर लिखा है.. खूब बिका है

ज़हर आजकल चलन में है, बिक रहा है.. और सफल होने का सिद्ध फ़ॉर्मूला भी है। अगर आप ज़हर उगलते हैं, ज़हर लिखते हैं, ज़हर के व्यापारी हैं, ज़हर को चटपटे फ़्लेवर में बेचने वाले दबंग दुकानदार हैं.. तो लोग आपको पहचानने लगेंगे..

Theatrics of Knowledge 🎭 ज्ञान का अभिनय

जहां अभिनय है, वहां ज्ञान सिर्फ़ एक दर्शक बनकर.. बस थोड़ी देर के लिए बैठ सकता है!
.
.
जब शहर में आग लगी हुई थी..
वो चुप था..
उसकी अंतरात्मा पर बीस सेंटीमीटर की बर्फ़ गिरी हुई थी

Chai-चरित्र ☕️ (a Tea-nalysis)… एक चाय हो जाए !

चाय की प्यालियों के बीच वक़्त कैसे उधड़ता है.. चाय के घूँट इंसान को कैसे सहलाते हैं.. आज़ादी दिलाने वाले सवालों से चाय पर मुलाक़ात कैसे होती है ?… जब अंगारे आराम फ़रमाते हैं तो चाय पिलाना कैसे चाटुकारिता और जी हुज़ूरी बन जाता है.. और चाय में एक चम्मच चीनी घोलते हुए.. किस तरह का अध्यात्म दिखाई देता है ? …Read more…