DROPS : बूँदें

कभी गौर किया है आपने.. हर प्यास को ढक लेती है बरसात.. और थोड़ी देर के लिए तृप्ति का धोखा हो जाता है। बूँदें कभी असलियत छुपाने वाले पर्दे की तरह नज़र आती हैं.. कभी प्रश्न की तरह.. कभी ये रास्तों को पिघलाकर नये रास्तों का निर्माण करती हैं.. तो कभी ऐसा भी होता है जब आपको आसमान का गिरेबान पकड़कर अपने हिस्से की बूँदें झटकनी पड़ती हैं। आसमान में रहने वाली बूँदों से लेकर आँखों में रहने वाली बूँदों तक.. सबको इस एक पोस्ट में लयबद्ध किया है.. इन पंक्तियों की बारिश में आप थोड़ी देर भीग सकते हैं..

Image Credit : Geetanjal Khanna

बूँदों का पर्दा

इतने सारे मौसमों में
उसे बरसात का मौसम पसंद है
जब जब बारिश होती है
उसके आंसू छिप जाते हैं

एक तरफ दर्शक हैं
दूसरी तरफ रंगमंच है
बीच में बूंदों का पर्दा है

राग मल्हार गाकर बूँदों को बुलाने की कथाएँ मिलती हैं, कभी गायन से आसमान बूँदें लुटाता था, आज आसमान का गिरेबान पकड़ना पड़ता है, अपने हिस्से की बूँदों के लिए

जादुई यथार्थवाद के लेंस से देखने पर अगली रचना सार्वभौमिक हो जाती है

बुलाओगे तो आएँगीं बूँदें

वो कमाल के लोग थे
जो गाते थे राग..
बुलाते थे बूँदों को आसमान से
और वो बात मान लेती थीं
उतर आती थीं ज़मीन पर
आकर बैठ जाती थीं सिरहाने
सहलाती थीं दरारों से भरी घायल ज़िंदगियों को

वो राग.. रुग्ण1 हैं आज
चीख़ों.. सिसकियों.. टूटी हुई उम्मीदों को
अब स्वयं ही लयबद्ध होना होगा..
थरथराते हुए इस राग को.. पकड़ना होगा आसमान का गिरेबान
और झटकनी होंगी अपने हिस्से की बूँदें

Image Credit : John Noonan

आँखों के पानी में रहती है एक जलपरी

बूँदे लुटाता आसमान
आँखों से बहती जलपरी

पल पल कोलाहल है दुनिया
मन की समाधि जलपरी

अंदर चलता एक महायुद्ध
कृष्ण की गीता जलपरी

हर इंसान में हँसता शैतान
रूहानी मरहम जलपरी

हर आँख के पानी में
उम्मीद बन तैरती जलपरी

एक बूँद, एक प्रश्न

मेरे आगे नाचती हुई भीगी सी हवा
बालकनी पर लोहे की छड़ों को पकड़कर
झूला झूलती बारिश की बूंदें
पीछे रवि शंकर का सितार वादन
और कहीं दूर से आती
मां के खांसने की आवाज़
क्या दर्द और खुशी की धुनें
एक दूसरे का हाथ पकड़कर उत्सव मना सकती हैं ?

पिघली हुई सड़कें

बारिश में पिघली पिघली सी सड़कें
हमसे कहती हैं कि ज़िंदगी के रास्तों पर
दौड़ने की नहीं, बहने की ज़रूरत है



  1. रुग्ण = रोगी 🤧 ↩︎

Siddharth | सिद्धार्थ
Siddharth | सिद्धार्थ

काव्य के नये सूत्र, नये आयाम रचने की कोशिश है, डिजिटल दौर में कुछ महसूस कर पाना ही सबसे बड़ी पूँजी है, वही बाँट रहा हूँ

इन पंक्तियों की बारिश में आप थोड़ी देर भीग सकते हैं .. ये मनुष्य होने की attendance है .. आप #kavivaar से absent नहीं हो सकते ..


Comment