Lockdown Duration : भारत को कितने दिन के लॉकडाउन की ज़रूरत है ?

प्रवासी मज़दूरों के पलायन की तस्वीरें सबको दुख दे रही हैं, पर ये लॉकडाउन 21 दिन में ख़त्म होता नहीं दिखता‬। ‪भारत को कम से कम 49 दिन के लॉकडाउन की ज़रूरत है। ‬

‪भारतीय वैज्ञानिक रॉन्जॉय अधिकारी और राजेश सिंह ने एक रिसर्च पेपर तैयार किया है।

इसे केंब्रिज यूनिवर्सिटी के Department of Applied Mathematics and Theoretical Physics के वेबपेज के ज़रिए देखा जा सकता है।

इस रिसर्च पेपर का शीर्षक है

Age-structured impact of social distancing on the COVID-19 epidemic in India

ये पेपर मैंने पढ़ा है, आसान भाषा में आपको समझा देता हूँ‬

इसमें जो मुख्य बातें कही गई हैं उन पर गौैर कीजिए

  1. 21 दिन का लॉकडाउन भारत के लिए काफी नहीं है, अगर इसके बाद यानी 15 अप्रैल से छूट दे दी गई तो भारत में कोरोना संक्रमण के केस बहुत तेज़ी से बढ़ेंगे। इसमें 2700 से ज़्यादा मौतें हो सकती हैं
  2. दूसरा तरीका ये है कि 21 दिन के लॉकडाउन के बाद 5 दिन की छूट दी जाए और फिर 20 अप्रैल से 28 दिन का लॉकडाउन कर दिया जाए। इस परिस्थिति में भी 17 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद कोरोना संक्रमण के मामले बहुत तेज़ी से बढ़ेंगे।
  3. तीसरा तरीका ये है कि 21 दिन के लॉकडाउन के बाद 5 दिन की छूट दी जाए फिर 28 दिन का लॉकडाउन कर दिया जाए। फिर 18 मई से 5 दिन की छूट दी जाए और 23 मई से 18 दिन का लॉकडाउन कर दिया जाए। इस तरह 10 जून तक परिस्थिति नियंत्रण में आ जाएगी। हालाँकि इसमें जोखिम भी है, इसलिए बात नहीं बनेगी
  4. और चौथा और सबसे कारगर तरीका ये है.. कि लगातार 49 दिन तक लॉकडाउन रहे। इससे 13 मई तक स्थिति क़ाबू में आ सकती है
  5. इस पेपर में सोशल डिस्टेंसिंग के असर पर भी कुछ बातें लिखी हैं। कहा गया है कि ये एक असरदार तरीका है, लेकिन लाभ तभी होगा जब लगातार एक लंबे समय तक इसका पालन किया जाए। इस गणित में संभावित त्रुटियों को लेकर डिस्क्लेमर भी है.. लेकिन बात तार्किक लगती है।
  6. अलग अलग उम्र के लोगों पर कोरोना वायरस के असर पर इसमें लिखा है
    • 15 से 19 साल तक के लोगों में इनफेक्शन सबसे ज़्यादा है और 75 से 79 साल के लोगों में सबसे कम।
    • लेकिन मृत्यु दर सबसे कम है 15 से 19 साल तक के लोगों में और सबसे ज़्यादा है 60 से 64 साल के लोगों में।

इस रिसर्च का सार और संकेत ये है कि भारत के प्रशासकों को ये रिसर्च पढ़ना चाहिए और लॉकडाउन को लेकर उचित वैज्ञानिक सलाह लेनी चाहिए.. ताकि आगामी समय में भारत के हित में तमाम फैसले लिए जा सकें। ये लॉकडाउन पर बड़े फैसले लेने का समय है।

वैज्ञानिक राजेश सिंह ने इस रिसर्च की गणनाओं को Github पर भी शेयर किया है

तकनीकी रूप से जिज्ञासु लोग github पर भी डेटा देख सकते हैं।

ये रहा लिंक – https://github.com/rajeshrinet/pyross

Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

how you feel ? ... Write it Now