A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

घरेलू प्रेम पत्र 💌 Offline Letters from Home

डाक विभाग बर्फ़ की सिल्ली की तरह जम गया है, नेटवर्क ने हड़ताल कर दी है, वक़्त के इस Offline टुकड़े में कुछ पुराने बिखरे हुए पत्र मिले हैं। दुनिया से खुद को काटकर गृहस्थ जीवन जीना भी किसी काव्य से कम नहीं। ये वक़्त के कुछ ऐसे अंश हैं, जो आपको अपने से लगेंगे। 7 नये हैं और 5 पहले के लिखे हुए हैं, कुल मिलाकर 12 हुए…

offline letters from home

Sleep in Pieces : नींद के टुकड़े

उसकी नींद के टुकड़े मेरी मोहब्बत का सामान बन गये हैं

Charred in love : आंच लग गई

आंच ज़्यादा होने पर
जैसे दाल, सब्ज़ी या रोटी, लग जाती है, चिपक जाती है बर्तन से…
वैसे ही वो भी लग गई है मुझसे

Wax Statue : मोम के पुतले

उसकी आँखें
जलते जलते फड़कने लगीं
मोम बहने लगा

Marriage : साथ-श्रृंगार

शाम के माथे पर लाली
मानो आसमान की मांग भर गई हो
खिलखिलाती रहो

Pregnant : नया जीवन

तुमने खुद में ज़िंदगी को पनाह दी है
तुम्हारी पलकों पर मेरे लबों से लिखी इबारत कुबूल हो

Stairs : सीढ़ियां

आज दीवारों से दरारें झाँक रही थीं
उम्र की सीढ़ी से उतरते हुए
वो काँप रही थी

Hollow : खोखला

उसने ज़ोर से दरवाज़ा खटखटाया
तब जाकर समझ में आया
कि अंदर से कितना खोखला हूं


 

आवश्यकता

मुझे तुम चाहिए होती हो,
पर मुझे तुमसे कुछ नहीं चाहिए होता

खौलता हुआ पानी

दूध होता तो उबल चुका होता अब तक
पानी है इसलिए आँखों में खौल रहा है
वो उबलकर बाहर नहीं गिरता
भाप बनकर उड़ जाता है
क्योंकि प्यार की आंच ज़्यादा है

पाँच फ़ुट दो इंच

कुछ तुम उड़ी-उड़ी सी हो
कुछ मैं झुका-झुका सा हूँ
इसलिए आज तुम्हारी ऊँचाई में
कुछ इंच का इज़ाफ़ा हुआ है

तिजोरियाँ

खर्च हो जाओ मुझमें
इतनी बचत करके क्या करोगी
कर लो प्रयत्न सारे
अंतत: यादों की तिजोरियाँ भरोगी

अंगीठी

गहरी तपिश
अंगीठी वाले कोयले सी
उस पर दमकता
उनका ख्याल
जिस्म-ओ-रूह को
ठंड से
वही तो बचाता है

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

3 Responses to “घरेलू प्रेम पत्र 💌 Offline Letters from Home”

  1. Kuldeep

    अद्भुत, जियो, खुश रहो।
    बहुत सुंदर , भावनावों को शब्दों में पिरोना एक कला है, और तुम इस कला के माहिर खिलाड़ी हो।

    Liked by 1 person

    Reply
  2. nikidubes

    अद्धभुत
    पढ़ो तो विश्वास नहीं होता कि जिससे मिलते हैं उसी शरीर मे इन कविताओं की अनुभूति जन्म लेती ही।

    Liked by 1 person

    Reply

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Basic HTML is allowed. Your email address will not be published.

Subscribe to this comment feed via RSS

%d bloggers like this: