A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

Adam-Eve & Apple of Politics : आदम-हव्वा और सियासत का सेब

Eyes burning with Hunger & Lust, Not seeing anyone, Not sparing anyone. Just want to take a bite of that luscious Apple, At any cost. It’s about Eve and Adam, Me and You, Blinded by Politics. It’s a World full of Hungry & Lonely Actors.

Adam eve and apple of politics illustration

आंख में पानी बचा नहीं
साज़-ए-दिल बजता नहीं
नाखूनों की नोंक से
खुरच कर देख लो
न ख़ून
न शफ़क़त

बस..
मतलब..
नफ़रत..
सियासत..

ये है
राम-अल्लाह
आदम-हव्वा
बुल्ले-ईसा की दुनिया

ग़ौर से देखो इसे
दुनिया जिसे कहते हैं

नहीं ढूंढ पाओगे उसे
अपना जिसे कहते हैं

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

5 Responses to “Adam-Eve & Apple of Politics : आदम-हव्वा और सियासत का सेब”

  1. Hemraj

    त्रिपाठी जी, बहुत अच्छा लिखते हैं आप । मैं आपके लगभग सभी लेख पढता हूँ ।

    Like

    Reply
  2. nikidubes

    इस बार की बुनावट अलग है
    तुकांत है
    शफ़ाक़त जैसे शब्द थोड़े नये से लगे

    Like

    Reply
    • SidTree

      रोज़ नया हो रहा हूँ
      खाल मोटी नहीं है
      इसलिए पपड़ी बनकर उचड़ रही है

      Like

      Reply
  3. nikidubes

    मिल जाये तो मिट्टी है
    खो जाए तो सोना है
    दुनिया जिसे कहते हैं….

    Like

    Reply

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Basic HTML is allowed. Your email address will not be published.

Subscribe to this comment feed via RSS

%d bloggers like this: