Adam-Eve & Apple of Politics : आदम-हव्वा और सियासत का सेब

Eyes burning with Hunger & Lust, Not seeing anyone, Not sparing anyone. Just want to take a bite of that luscious Apple, At any cost. It’s about Eve and Adam, Me and You, Blinded by Politics. It’s a World full of Hungry & Lonely Actors.

Adam eve and apple of politics illustration

आंख में पानी बचा नहीं
साज़-ए-दिल बजता नहीं
नाखूनों की नोंक से
खुरच कर देख लो
न ख़ून
न शफ़क़त

बस..
मतलब..
नफ़रत..
सियासत..

ये है
राम-अल्लाह
आदम-हव्वा
बुल्ले-ईसा की दुनिया

ग़ौर से देखो इसे
दुनिया जिसे कहते हैं

नहीं ढूंढ पाओगे उसे
अपना जिसे कहते हैं

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

5 Replies to “Adam-Eve & Apple of Politics : आदम-हव्वा और सियासत का सेब”

  1. त्रिपाठी जी, बहुत अच्छा लिखते हैं आप । मैं आपके लगभग सभी लेख पढता हूँ ।

Comment