कच्चे रिश्तों के बीच बहता रिश्ता मांग का सिंदूर बन जाता है।
ग़ज़ब की रचनाधर्मिता है।

Like