🌈 A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

‘Mount Garbage’ 🏔 in Recycle Bin 🗑 : कबाड़ का शिखर

मूल विचार और काव्य मानचित्र में दिखाई गई स्थिति का वर्णन
जो कुछ नहीं छोड़ सकता वो अंत में कबाड़ के शिखर पर पहुँचता है, आह्लादित (प्रसन्नचित्त) होकर विजय का ध्वज फहराता है, और Right Click करके Empty Recycle Bin का विकल्प चुन लेता है। Click करते ही सब किया धरा नष्ट हो जाता है, अर्थात अदृश्य हो जाता है*

*नष्ट होने का अर्थ है छिपना

You fix your Victory Flag on The Top of The Mountain, suddenly you realise that you are not standing on top of World. It’s ‘Mt. Garbage’

You fix your Victory Flag on The Top of The Mountain, suddenly you realise that you are not standing on top of World. It’s ‘Mt. Garbage’

पूरे जीवन कोई मौक़ा नहीं छोड़ा
वो सब कुछ पाता चला गया
हासिल करता चला गया
पहले ये वसूली बहुत रास आई उसे
फिर सामान बढ़ता चला गया
अंत में
उसके क़दमों के नीचे दुनिया नहीं,
कबाड़ था

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

 

5 Responses to “‘Mount Garbage’ 🏔 in Recycle Bin 🗑 : कबाड़ का शिखर”

  1. Kuldeep

    सत्य, कटु सत्य। जो समय पर अपना रीसायकल बिन खाली नहीं करता, उसका सिस्टम हैंग होने लगता है। इसलिए सफाई ज़रूरी है ।

    Like

    Reply
  2. Nikhil dubey

    बहुत अच्छा
    बहुत ही अच्छा
    बहुत बहुत बहुत अच्छा
    (बहुत अच्छा)100000
    शुक्रिया इतनी बेहतरीन कविता के लिए

    Like

    Reply

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Basic HTML is allowed. Your email address will not be published.

Subscribe to this comment feed via RSS

%d bloggers like this: