A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

Mother (मां) : Lifeline of Our World

This is Video of Digital Sketch along with Original Music Composed on iPad Pro

Reference : A Poem titled ‘Tolerance’

मां ने हमें सहना सिखाया,
तंगहाली में रहना सिखाया

जब ज़माने ने मारी ठोकरें
कपड़े झाड़कर बढ़ना सिखाया

ऊंचाई पर खड़े हुक्मरानों से
कर्री बात कहना सिखाया

जीतकर रोने वाली भीड़ में
हारकर नाचना, हँसना सिखाया

Advertisements

5 Responses to “Mother (मां) : Lifeline of Our World”

  1. nikidubes

    जीत के हंसने वालों के बीच
    हार के हंसना सिखाया

    Like

    Reply
  2. Sarina

    मुझे मेरी माँ ने अन्न का आदर करना सिखाया है, वो बोलती है खाने को देखकर मुह मत बनाओ, जो बना है या मिला है,प्यार से खाओ। कपड़ो को अवेर के रखो, घर को साफ़ और सजा के रखो। सारे धर्म का आदर करो। और भी न जाने कितनी अच्छी और प्यारी बातें माँ ने सीखाई हैं। वो मुझे घर के हर एक काम में perfect बनाना चाहती है, वो मुझे इसलिये डांटती है ताकि ससुराल में मुझे डाट न खानी पड़े। सच में माँ बहुत प्यारी होती है!

    Like

    Reply
  3. Sarina

    सर जब पहली बार आपकी की poerty website को check किया (देखा) था , तो सब से पहले यही वाली (माँ)👆digittal painting देखी थी। बहुत ज्यादा पसंद आई थी। उस वक़्त भी निशब्द थी और आज भी।

    Like

    Reply
  4. Trina Bhattacharjee

    I showed the painting and poem to my mother sir…she said that people with a bhavuk and beautiful heart like you are not many in the world …god bless you sir…

    Like

    Reply

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Basic HTML is allowed. Your email address will not be published.

Subscribe to this comment feed via RSS

%d bloggers like this: