कविता चलती चाक की तरह लगी इसने दिमाग मे मौजूद भावनाओ की kachhi मिट्टी को एक रूप स दे दिया।

Like