आज़ाद आवाज़ : Free Speech

आज़ादी एक ऐसा शब्द है जिसका विस्तार अनंत है, और इस विस्तार में कई बार सैकड़ों भाव और स्थितियां समाहित हो जाते हैं। आज़ादी के संदर्भ में देखें तो हर एक पल की अपनी अलग-अलग स्वतंत्रता है। एक ही दिन में आप कई बार खुद को आज़ाद महसूस करते हैं और बहुत बार खुद को गुलामों की तरह सिर झुकाए खड़ा हुआ देखते हैं। हर रोज़ आप आज़ादी की एक लड़ाई लड़ते हैं.. हर रोज़ भारत छोड़ो आंदोलन होता है.. हर रोज़ स्वतंत्रता दिवस होता है। ऐसे अनेक लम्हों/स्थितियों को मैंने पांच तरह से लिखने/कहने की कोशिश की है।

  1. आज़ादी : Melt chains & Fly
  2. अंगारे आराम फर्मा रहे हैं : Sparks are Sleeping
  3. काले गुलाब : Black Roses
  4. आज सच थोड़ा ज़्यादा हो गया : Truth Hurts
  5. ड्यूटी पर शब्द ! : Words Born Free ?

इन पांचों को पढ़िये और जब तक सांस चल रही है.. तब तक पूरी शिद्दत से हर पल स्वतंत्रता दिवस मनाते रहिए। स्वतंत्रता दिवस किसी एक देश का नहीं होता, वो पूरी मानवता का होता है। मैंने जो भी लिखा है, देश, काल, परिस्थितियों से आज़ाद होकर लिखा है।


आज़ादी : Melt chains & Fly

बाहर काया गल रही है20120815-215416.jpg
अंदर रूह मचल रही है

आज आज़ादी का दिन है
आज बाहर निकलना है

जगाते हैं जो सवाल
उनसे चाय पर मिलना है

कर लेंगे यारी उनसे
तभी जवाब मिलना है

पर मेरी मान तू खो जा
छोड़ लेन देन का धोखा
आंखों पर हाथ सा गुज़रने दे
बस पलक मूंद चलने दे

चार आंसू हैं बहने दे
थकन शिकन अब भूल जा
ज़ोर लगा, ज़ंजीर छुड़ा
उड़ जा, उड़ जा

International Version

Inside the Body
Soul is crying
Tears are drying
Why not i m flying

Was Born free
I’m Chained, see

big Illusion
big confusion

Arrows of Anger
Silence is a Danger

Eyes seeing in the sky
Melt chains and Fly


अंगारे आराम फर्मा रहे हैं : Sparks are Sleeping

When Sparks are sleeping, revolution is light years away.

अंगारे आराम फर्मा रहे हैं20120523-022126.jpg
लबालब हैं.. तपिश से
मगर हवा खा रहे हैं
राख उड़ा रहे हैं
अंगीठी में दफ़्न
चाय पिला रहे हैं

कोई इनसे पूछे
पिछली बार कब
इन्हें गुस्सा आया था
कब अपने अंदर की नपुंसकता मारने को
ये जले थे
कब दबे कुचले की मशाल बने थे
कब अंधेरी राह को रौशन किया था

आंखें तरस गईं अंगारे देखने को
काश, ये गहरे जलते
ज़ेहन पर क्रांति मलते
पर अफसोस…
संसार जल रहा है
आराम चल रहा है

International Version

Intoxicated
Partying hard
Feeling proud
For Being retard

Eyes open, Mind Shut
Getting sexual with Air like a Slut
Sparks are Sleeping

I ask them
When was the last time they got their anger boiling ?
I ask them
When was the last time they lighted up a dark road ?
Where is the firelight to burn every bit of impotence ?
A Killer silence flows
A cold wind blows and yet
Sparks are Sleeping
Revolution is light years away


काले गुलाब : Black Roses

Immense Pride and Direction less Anger always hurts, it never helps

गुलदस्ता जला देने परBlack Roses
कोई मुक़द्दमा तो दर्ज नहीं हुआ

लेकिन उसे हर बार हँसते हुए
अंदर कुछ जलता हुआ महसूस होता था

राख के कण
लाल हो चुकी, आँखों की गीली सतह पर बैठते जा रहे थे

आँखों में आग और सतह पर राख
ये धधकते हुए काले गुलाब हैं
इनसे किसी को ज़िंदा जलाए जाने की दुर्गंध आती है
हमें इन काले गुलाबों से ‘आज़ादी’ चाहिए


आज सच थोड़ा ज़्यादा हो गया : Truth Hurts

This is a thought on compromises made during quest for Success ! Its casualty of Freedom

एकलव्य ने तो अँगूठा दिया था, यहाँ क़ौम दोनों हाथ कटाए बैठी है
बिना हाथ वाले धड़ की गर्दन
झुकते झुकते ज़माने के पैरों तक कब पहुँच जाती है
पता ही नहीं चलता

गर्दन पैरों पर, नाक जूतों पर
और नाक पर तो बारूद भी नहीं होता
कि रगड़ने पर जल जाए
कुछ जूतों की चमक के लिए भीड़ नाक रगड़ रही है
सवाल है कि आग कब लगेगी ?
ये सोचते सोचते
हिंदुस्तान गलकर आधा हो गया
आज सच थोड़ा ज़्यादा हो गया


ड्यूटी पर शब्द ! : Words Born Free ?

Words on duty? on hire ? Where are the words which bring a change in society?

अच्छा होता अगर
मेमने जैसे शब्द, शेर बनते
क्योंकि मेमने क्रांति नहीं लाते
फैक्ट्री में थोक के भाव आते है
9 से 5 नौकरी करते हैं जाते हैं

शेर की तरह स्वच्छंदता से घूमते हुए
अपना अर्थ सिद्ध करते जाना अच्छा है

नौकरी करते और EMI भरते शब्द
समाज को कुछ नहीं दे सकते


© Siddharth Tripathi  SidTree
Add Bookmark for SidTree.co

Siddharth Tripathi / *SidTree
1

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s