Orbits of Spouses : वर-वधू के बीच की अंतरिक्ष मालाएँ

This time i have tried to travel between the orbits of Spouses and the journey was very different…. meaningful.


पति-पत्नी
एक दूसरे से भिन्न
एक दूसरे से खिन्न
कभी एक दूसरे को दिल की बात न कहते हुए
जिये चले जा रहे हैं
उधड़े हुए कई मोड़ ज़िंदगी के
सिये चले जा रहे हैं

बहुत नज़दीक से देखो तो सिर्फ़ पैबंद दिखाई देते हैं
बहुत पास आते ही
जीता-जागता इंसान धुंधला हो जाता है

इसलिए थोड़ा दूर भी रहा करो
बिलकुल चांद की तरह
कि तमाम दाग़ों से फिसलकर
रोशनी आती रहे


© Siddharth Tripathi  ✍️SidTree
Add Bookmark for SidTree.co

Advertisements
Siddharth Tripathi / *SidTree
0

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s