Poetic meaning of Eid <140

जब नफ़रतों के, भ्रम के बादल छँट जाएँ
आँख की धूल हट जाए
और चाँद साफ़ दिखने लगे
तो समझो उसी दिन ईद है

EID Mubarak

🕋🌙


© Siddharth Tripathi  ✍️SidTree
Add Bookmark for SidTree.co

1 Comment

how you feel ? ... Write it Now