Climate Deal : महाशक्तियों को पूरी साँस नहीं मिलेगी

This is a special one for International Mother Earth Day

पुरानी साँसें बहुत जल्द मैली हो जाएंगी
इतनी मैली कि कार्बन जमने लगेगा सोच-समझ पर
इसलिए सभ्य व्यापारियों को नई साँसों की तलाश है
पलायन की तैयारी में लगे हैं सभी विकास-पुरुष
परंतु पलायन हो न सकेगा
धरती पर खिंची हुई सीमा रेखाएँ
हवा को न बाँट सकेंगी
श्वास नली में अटक जाएँगे
विकास के अवशेष, और…
विश्व की महाशक्तियों को पूरी साँस भी न मिलेगी

इसलिए सभ्य व्यापारियों को नई साँसों की तलाश है
पलायन की तैयारी में लगे हैं सभी विकास-पुरुष

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

6 Comments

  1. कड़वा और सत्य! It should in English Version also so that विश्व की महाशक्तियां (अमरीका,ट्रंप) could read this.
    और “विकास पुरुष” विकास के लिये प्रदूषण को नज़र-अंदाज़ करते हैं और फिर पलायन चाहते है, ये कैसे संभव है सर हा हा! “विकास-पुरुष” की समझदारी का परिचय, पहले विकास फिर पलायन! “परंतु पलायन न हो सकेगा”।

  2. साँसों में अटके विकास के अवशेष
    बहुत शानदार

  3. True… तथाकथित विकास के एवज़ में साँसों का सौदा..

how you feel ? ... Write it Now