A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

Archive for ‘June, 2017’

Poetic meaning of Eid <140

जब नफ़रतों के, भ्रम के बादल छँट जाएँ आँख की धूल हट जाए और चाँद साफ़ दिखने लगे तो समझो उसी दिन ईद है EID Mubarak…

Better Half – हमसफ़र – 1

हमसफ़र श्रृंखला के तहत दो कविताएं लिखी हैं। इनमें जीवनसाथी के होने का बोध है और उसके ना होने पर देर तक रहने वाली अगरबत्ती जैसी…

Better Half – हमसफ़र – 2

ये एक छोटी सी कविता है, जिसमें हमसफ़र आपकी यात्रा का साक्षी है। सुनना, सुन पाना और सुन लेना भी प्रेम ही है। किसी की बातों…