Pen & Pistol : क़लम और बंदूक़ का रिश्ता पक्का हो गया

This one explores characteristics of Pen and Pistol and relationship between them in modern times.

कुछ सवाल ख़ुद पर दाग़ने होंगे
कुछ युद्ध ख़ुद से करने होंगे
गिराने होंगे परमाणु बम अपने अंदर
और करनी होंगी संधियां बार बार
कुछ कविताएं बंदूक की नाल से लिखी जाएंगी

और क़लम ?
कलम से कुछ लोगों का क़त्ल किया जाएगा
कलम की नोक से मोटी चमड़ी को खुरचा जाएगा, भेदा जाएगा
ये देखना दिलचस्प रहेगा कि खून निकलता है या नहीं ?
खून है भी कि नहीं ?

चुने हुए, पहुँचे हुए लोग
अपनी अभिलाषाओं का लौह कवच पहनकर
तोड़ देते हैं कलम की नोक
उखाड़ देते हैं की-बोर्ड के अक्षर
घिस देते हैं हर विचार को

अब क़लम और बंदूक़ का रिश्ता हो गया है
किराये के मकान में दोनों साथ रहते हैं।

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

2 Replies to “Pen & Pistol : क़लम और बंदूक़ का रिश्ता पक्का हो गया”

  1. ये देखना दिलचस्प रहेगा कि खून निकलता है या नहीं ?
    खून है भी कि नहीं ? वाह।

  2. क्या जुगलबंदी है
    बंदूक की
    कलम से

Comment