Colors in My Pocket : जेब में गुलाल

This Poem is a Colorful shortcut, towards life

मैं एक मुठ्ठी गुलाल हमेशा जेब में रखता हूं
अगर कभी मिले कोई सूखा कोना ज़िंदगी का
कोई बुझा चेहरा
या कोई मोड़ आंसुओं वाला
थोड़ा थोड़ा रंग डालकर
तस्वीर बदल डालूंगा

International Version

I keep colors in my pocket
To keep… Dry corners of life alive
To keep… Smiles on disappointed faces
To make even my tears… red, green, blue, pink
Its a colorful shortcut, towards life


Happy holi / होली की शुभकामनाएं,
अपने और दूसरों के जीवन में रंग भरते रहिए

* In Pic : SidTree with Live Logo in HomeStudio

20130327-161038.jpgIMG_0494

 

© Siddharth Tripathi ✍ SidTree

3 Replies to “Colors in My Pocket : जेब में गुलाल”

  1. वाह Siddharth सर ..! बहुत ही खूबसूरत, ज़िंदादिल और सकारात्मक सोच है आपकी। I love both the version of your poem and really it is full of “गुलाल”..!!😃👌

Comment