Shiva’s Molten Marriage : बहता हुआ लावा माँग का सिंदूर बन जाता है

This is dedicated to the state of simultaneous attachment & detachment, practiced by Lord Shiva in Hindu Mythology. I hope you would like this.


तुमने पार्वती की तरह मुझे अपनी भक्ति से जलाया
मैंने शिव की तरह तीसरे नेत्र को खोला, प्रलय को बुलाया
हमारे बीच
भावनाओं के ज्वालामुखी फटते हैं
तो टुकड़े टुकड़े हो जाती है ज़मीन,
बनती है आग की लकीर
जो रास्ते की हर चीज़ को
मिटाती हुई
और कुछ नया लिखती हुई चली जाती है
विध्वंस और सृजन
एक साथ सधे हुए दिखते हैं
शिव के नीले कंठ में

बार बार
कच्चे रिश्तों के बीच बहता हुआ ये लावा
माँग का सिंदूर बन जाता है


© Siddharth Tripathi  *SidTree
Add Bookmark for SidTree.co

One Reply to “Shiva’s Molten Marriage : बहता हुआ लावा माँग का सिंदूर बन जाता है”

  1. शक्ति का हर रूप शिव के साथ निहित है, शिव की आराधना शक्ति के बिना नहीं हो सकती,शक्ति जब शांत होती है, तब वह शिव कहलाती है। ये दोनों तत्व ब्रह्मांड का आधार हैं! शिव-शक्ति एक-दूसरे के बिना अधूरे माने गए हैं।
    Excellent writing & express 👍

Comment