🌈 A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

Power Dissolved in Water : पानी के विस्तार की ताकत

Core Thought : There is a lot of power dissolved in a simple glass of water. Just magnify and see.

 

चट्टानों से टकरा जाने के बाद भी
पानी को चोट नहीं लगती
फैलना-सिकुड़ना
नदी सा निर्मल होना
सागर सा विव्हल होना

पानी को खूब आता है
नुकीले पत्थरों को सहलाना
और ज़रूरत पड़ने पर उन्हें गलाकर
खुद में समाहित कर लेना

ज़हर हो, अम्ल हो, आंसू हो या खून
सबको जलसमाधि लेते देखा है हमने
एक गिलास पानी में जीने का सलीका दिखाई देता है

 

International Version

Try
Magnify
Power is not up in the Sky
When Waves Cry
Hardest of the Rocks Crucify
In a glass of water, Hopes never dry

 

© Siddharth Tripathi ✍ SidTree

3 Responses to “Power Dissolved in Water : पानी के विस्तार की ताकत”

  1. Sarina

    अति सुन्दर शब्द हैं! कविता की आखिरी पंक्ति तो हमेशा ही दिल को छू लेने वाली होती है। “एक गिलास पानी में जीने का सलीका दिखाई देता है” वाह!

    Like

    Reply

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Basic HTML is allowed. Your email address will not be published.

Subscribe to this comment feed via RSS

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.