🌈 A Kavi on iPad creates 'Nirvana of Infotainment'

Villain : खलनायक

In every Villain there is a Mirror Image of so called Heroes. We are so busy in crushing the villains that we don’t even see our true reflection. There are no Heroes or Villains, there are people with opposite agendas, so someday you can also be a villain, be ready for it.

दुनिया गोल है
और गोल दुनिया की परिधि पर घूमती हुई भीड़ को
नायक नहीं खलनायक चाहिए
तीर या गोली मारने के लिए,
खाल को चीरकर उसमें भूसा भरने के लिए,
और फिर दीवार पर पुरस्कारों के बीच स्मृति चिन्ह बनाकर टांगने के लिए

 

खलनायक को विचारों की मदिरा में नहलाकर
उसे ज़िंदा जलाना नायकों का काम है..
इसमें गज़ब का नशा है..
और इस नशे में माचिस की जलती हुई तीली भी
मशाल जैसी लगती है
हालांकि थोड़ी ही देर में
तीली राख हो जाती है
आग उंगली तक पहुंच जाती है
और बड़े-बड़े नायकों के हाथ जल जाते हैं

 

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Basic HTML is allowed. Your email address will not be published.

Subscribe to this comment feed via RSS

%d bloggers like this: