Siddharth sir ..I realy loveeeeee this poem “Diya- A worrior of Light” sooooo beautifulllll…Awesomeee..! i am feeling so delighted to read it. दिया होता तो बहुत छोटा सा है,मिट्टी का बना लेकिन इसके गुण बहुत बड़े है। सच में आपकी कविता से पता चला ।इतनी गहराई से सोचा ही नही था कभी and I love d way U hve described a little-little things about “diya” Thankyouuuuuu so much Sir..!! Sooo Inspirational..!!

Like