आज़ादी : Melt chains & Fly

Hi,
This is a poem about Freedom, its not about any country’s independence. Its about an individual, born free on this planet and then taught to be caged and manipulative. This is how extraordinary Minds are tamed to be ordinary. I believe everybody is special, if he/she melts his/her own chains and tries to fly.

20120815-215416.jpg

बाहर काया गल रही है
अंदर रूह मचल रही है

आज आज़ादी का दिन है
आज बाहर निकलना है

जगाते हैं जो सवाल
उनसे चाय पर मिलना है

कर लेंगे यारी उनसे
तभी जवाब मिलना है

पर मेरी मान तू खो जा
छोड़ लेन देन का धोखा
आंखों पर हाथ सा गुज़रने दे
बस पलक मूंद चलने दे

चार आंसू हैं बहने दे
थकन शिकन अब भूल जा
ज़ोर लगा, ज़ंजीर छुड़ा
उड़ जा, उड़ जा

International Version

Inside the Body
Soul is crying
Tears are drying
Why not i m flying

Was Born free
I’m Chained, see

big Illusion
big confusion

Arrows of Anger
Silence is a Danger

Eyes seeing in the sky
Melt chains and Fly


© Siddharth Tripathi  *SidTree |  www.KavioniPad.com, 2016.

Comment