प्रश्नPoetry : Decoration | सजावट का शौक़ 

कागज़ की मछली

पिंजरे में बंद रंगीन चिड़िया

शेर की खाल की नर्मी क़दमों के नीचे महसूस करना

काले सफेद संगमरमर पर खड़े नाचीज़ राजा, वज़ीर, प्यादे

आईने को भी इजाज़त नहीं कि सच दिखा सके

सजावट का ये शौक हमें क्या बना रहा है ?

Core thought of this Poem

While decorating our world, we somehow plug all holes, vents which supply fresh air & fresh thoughts. Question is that how this decoration alters the personality of a human being.

© Siddharth Tripathi and www.KavioniPad.com, 2015

how you feel ? ... Write it Now