Zero = किसान

Core Thought : A Farmer is equal to Zero

गिरो तो उठ न सको
बुझो तो जल न सको
ज़हर मिला तो पी लो
माथे पर लिखा ज़ीरो..


थे तुम कभी हीरो
ज़मीन को चीरकर
अपना पसीना बो कर
अपने आंसू खो कर
अनाज देते रहे ज़माने को..

लेकिन
तुम्हें शून्य से गुणा किया सबने

 

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

Comment