Yagna of Mind : मन में यज्ञ

Hello World, Kavi-Vaar is here. Enjoy!

Core Thought*

*जो भी आपसे मिलता है, आपके अंदर एक आहुति छोड़ जाता है, और फिर आपके मन में वो आहुति लंबे समय तक दमकती रहती है। ऐसा हर रोज़ होता है, हम सबके साथ होता है। इस पर एक छोटा सा टुकड़ा लिखा है। अगर ये विचार आगे बढ़ा तो इसमें नये मिसरे जोड़ूंगा

A sort of Yagna is Going on in your Mind. Whenever somebody meets you, he/she gives oblations/Ahuti into Holy fire inside your head. This Fire stays and glows forever. Even when everybody’s gone light years away from your mind.


हवन सामग्री सा जलता रहा मन
जो भी मिला, अंदर एक आहुति छोड़ता गया

लोग मिलते गए, अग्नि बढ़ती गई
पिघला हुआ सोना खुद को, बार बार मोड़ता गया

SidTree - 2

 


© Siddharth Tripathi  *SidTree |  www.KavioniPad.com, 2016.

Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this Website’s author is strictly prohibited. Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given with appropriate and specific direction to the original content. iPad is registered trademark of Apple Inc. Author just creates content on iPad & Publicly accepts it.

how you feel ? ... Write it Now