पापा से बात करते हुए अक्सर हम कहते रहते थे कि “रेल के इंजन से नहीं लड़ना चाहिए, रेल के इंजन से लड़ने का नतीजा होता है आपकी मौत” अब भी अक्सर इस बात को कहता रहता हूँ। इस विचार को थोड़ा और आगे बढ़ाते हैं।

  1. रेल के इंजन के रास्ते से हटकर आप उसे किसी गड्ढे/नदी/नाले में गिरने के लिए छोड़ सकते हैं
  2. कोई उखड़ी हुई फ़िश प्लेट उसका शिकार कर सकती है।
  3. और सबसे बड़ी बात रेल का इंजन पटरी पर ही चल सकता है, वो बाध्य है क्रमश: उसी पटरी पर चलते रहने के लिए जबकि आप स्वच्छंद हैं।

एक दिन जापान की परंपराओं से जुड़ी एक किताब पढ़ते-पढ़ते अहसास हुआ कि भारत हो या जापान ये विचार हर समाज में व्याप्त है। इस विचार के लिए मेरे पिता विजय किशोर ‘मानव’ की विवेकशीलता को धन्यवाद देता हूं। इस सूक्ति से आप जीवन में बहुत सी परेशानियों और व्यवधानों से बच सकते हैं।

“負けるが勝ち Makeru ga kachi… Means – To lose is to win.
Herein lies the Japanese belief that non-confrontation is the best course. Even the quintessential Japanese martial art, karate, means “empty hand.”

1

Leave a Reply | दिल की बात लिखिए

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s