My last telegram to Princess : मेरा आखिरी तार

20130715-012408.jpg

 

Hindi Version

आंखों के सामने धुआं था गहरा
तभी कुछ मीठा जलने की बू आई
दिल में ‘तार’ की तरह तू आई
दरअसल
जो होता है सबसे पास
उसे झुलसाती है अंदर की आस
और आसपास…
जलती हुई चीनी सी महकती है
क्योंकि बहुत मीठे रिश्ते
आग नहीं झेल पाते
वो आधे जले हुए की महक
वो उड़ती राख नहीं झेल पाते


International version

Smoke so thick
can’t see through it

smell of charring Sugar
Creeping up through feet

Extra Sweet relationships
Turn darker in the heat

Still in a Blind fold
Echoing Voices in my ears

I am sending this telegram
With Scent of all these years


© Siddharth Tripathi  ✍️SidTree, 2013
Add Bookmark for SidTree.co

1 Comment

how you feel ? ... Write it Now