Watchman (The Real One !) : चौकीदार

Political Chowkidaar is Trending Everywhere, but I want to talk about the real Chowkidaar. In 2013 I tried to capture Loneliness of an Aged Watchman (or any person who has seen all seasons of life and near autumn he/she needs a bit of water from your eyes). Now in 2019 this word is highly political. But don’t worry, you can still find that human touch in this 6 year old (Timeless) narrative.

 

कभी जंग में गोलियां खाई थीं
आज अकेला खाना खाता है

चौकीदार गाना गाता है
हौले हौले सीटी बजाता है

बहुत से किस्से उबलते हैं उसके अंदर
आंच धीमी करता है, खुद को सुनाता है

हड्डियां कच्ची हैं, लाठी मज़बूत है
नींद में डूबा हुआ, देखो हर घर महफूज़ है

मौसम नया है, वो पुराना है
उसकी आंखों में भी नींद का ठिकाना है

गुज़रते हुए तुम अपनी आंख मोड़ लेना
उसकी झुर्रियों में कुछ साल जोड़ देना 

 

© Siddharth Tripathi ✍️ SidTree

One Reply to “Watchman (The Real One !) : चौकीदार”

Comment