है ख़बर गर्म… Breaking News

Taken from bilingual poem collection ‘Poetic Buddha’ by Siddharth

झुकी-बुझी

भीगी-थकी

नज़रें हैं और हैं

अंगारों से सवाल

जवाब नहीं मिलता

तो क्या है

वो भूख से

बिलखता है

कॉपी पर चलाता नहीं

फैलाता है हाथ

तो क्या है

गिरे हुए को

उठाने की

भटके को

आईना दिखाने की

फुरसत कहां है

‘बिक’नी हसीना की

एक्सक्लूज़िव छींकें

चौके छक्के

चुटकुले

सपने-झूठ

जो बिकता है

वो दिखाते हैं

हमें मत सिखाओ

हम जानते हैं

कौन सी ख़बर है गर्म

© सिद्धार्थ

– यहां एक बात जोड़ना चाहूंगा कि ऊपर लगाई हुई तस्वीरों का कोलाज, किसी चैनल विशेष पर कीचड़ उछालने की कोशिश नहीं है… समस्या को समझना ज़रूरी है… मैं भी एक हिंदी न्यूज़ चैनल का हिस्सा हूं.. ये सब कभी मेरे और मेरे जैसे कई संवेदनशील लोगों के हाथों हुआ होगा.. लेकिन सच फिर भी सच है… कड़वे सच आगे बढ़ने के लिए ज़रूरी हैं

© Siddharth Tripathi and http://www.KavioniPad.com, 2011. Unauthorized use and/or duplication of this material without express and written permission from this blog’s author and/or owner is strictly prohibited. Excerpts and links may be used, provided that full and clear credit is given to Siddharth Tripathi and http://www.kavionipad.com with appropriate and specific direction to the original content.

1 Comment

Comment